hmhm

 
 
  • हिंदी समाचार पोर्टल/ई-पत्रिकाएं 
  • भारतीय प्रेस परिषद
  • पत्रकार संगठन/प्रेस क्लब 
  • समाचार/फीचर एजेंसियाँ 
  • समाचार चैनल/केबल नेटवर्क 
  • पत्रकारिता प्रशिक्षण संस्थान 
  • उर्दू अदीब/शायर 
  • महत्वपूर्ण दिवस 
  • आर.एन.आई. हेल्पलाइन 
  • डीएवीपी कार्यालय 
  • पत्र सूचना कार्यालय(पीआईबी) 
  • नई दिल्ली में राज्यों के गेस्ट हाउस 
  • राष्ट्रपति / प्रधानमंत्री कार्यालय 
  • केंद्रीय मंत्रिमंडल 
  • राज्यों के राज्यपाल 
  • राज्यों के मुख्यमंत्री 
  • पत्रकारिता कोश - प्राप्ति केंद्र 
  • प्रवासी भारतीय रचनाकार
  •  
     

     

    Hindustanimedia.com

    साहित्यकार रामगोपाल श्रीवास्तव के सम्मान में

     

    पत्रकारिता कोश मंच की काव्य गोष्ठी सम्पन्न

    छिन्दवाड़ाः राजधानी भोपाल से छिन्दवाड़ा पधारे सहायक निर्देशक शिक्षा विभाग भोपाल एवं व्यंगकार व कहानीकार रामगोपाल श्रीवास्तव का जिले के साहित्यकारों यथा- डॉ. कौशल किशोर श्रीवास्तव, विशाल शुक्ल, अवधेश तिवारी, रणजीतसिंह परिहार, शिवशंकर शुक्ल, रत्नाकर रतन तथा विभिन्न संस्थाओं जिसमें पत्रकारिता कोश मंच अखिल भारतीय बुंदेलखण्ड साहित्य परिषद, मध्यप्रदेश आंचलिक साहित्यकार परिषद, आकाशवाणी छिन्दवाड़ा एवं हिन्दी प्रचारिणी समिति द्वारा जोरदार स्वागत किया गया।

    इस दौरान श्री गोपाल के मुख्य आतिथ्य व सम्मान में सरस काव्य गोष्ठी का आयोजन पत्रकारिता कोश मंच द्वारा डॉ. कौशल किशोर श्रीवास्तव के मानसरोवर स्थिति निजी चिकित्सालय में किया गया। इस कार्यक्रम का प्रारंभिक संचालन रणजीत सिंह परिहार ने किया तथा काव्य गोष्ठी का संचालन शिवशंकर शुक्ल लाल ने किया। काव्य गोष्ठी का बेहतरीन आगाज करते हुए आकाशवाणी छिन्दवाड़ा के वरिष्ठ उद्घोषक व बुंदेली रचनाओं के लिए चर्चित कवि अवधेश तिवारी ने अपनी कविताओं के माध्यम से तालिया बटोरी। इलाहबाद हम नहीं जा पाये, हमने गंगा नहीं नाहे, न मथुरा के पेड़ा खाये, सच्ची छिद्दी करम दरिद्री, तुमने जीवन व्यर्थ गवायें। भाई और बहन के पवित्र स्नेह और भावनाओं को कविता के माध्यम से रणजीत सिंह परिहार ने प्रस्तुत किया। बहन बांधे भैय्या को राखी, माथे लगा ये कुमकुम चंदन, रिश्तों की रेशमी डोर ही होता है, रक्षाबंधन। कवि विशाल शुक्ल ने राष्ट्र की व्यथा पर अपनी गजल के माध्यम से वाह वाही लुटी। घर की अस्मत दाना-पानी और खतरे में है जान, सो रहे हैं मुल्क के इंतजामी, रक्षा करना राम। कवि रत्नाकर रतन ने अपने गीत से कार्यक्रम को गति दी। अपने आशीष को संभाले रखिऐं, गालियां भी अमर नहीं होती, निराला, पंत की रचनाओं से दोस्ती उम्र भर नहीं होती। कार्यक्रम का संचालन कर रहे शिवशंकर शुक्ल लाल ने अपनी कविताओं के माध्यम से कार्यक्रम ऊँचाईयां दी वहीं डॉ. कौशल किशोर श्रीवास्तव ने अपनी व्यंग रचनाओं व कविताओं से कार्यक्रम को सफलता दी। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि रामगोपाल श्रीवास्तव ने अंडमान निकोबार, पोर्ट ब्लेयर की यात्रा व वहां बिताये गये क्षणों के संस्मरण के माध्यम से देश की आजादी की कीमत तथा देश की एक आदर्श तस्वीर का चित्रण प्रस्तुत कर उपस्थित लोगों का भाव-विभोर कर दिया। कार्यक्रम के अंत में पत्रकारिता कोश के जिला संयोजक विशाल शुक्ल ने कार्यक्रम की सफलता पर आभार व्यक्त किया।

    गौरतलब है कि भारत की प्रथम मीडिया डायरेक्टरी पत्रकारिता कोश द्वारा हाल ही में पूरे देश में साहित्यिक, पत्रकारिता, सांस्कृतिक व कला संबंधित गतिविधियां करने के लिए पत्रकारिता कोश मंच गठित किया गया है। छिंदवाड़ा में गठित यह मंच का पहला कार्यक्रम है और इसी प्रकार पूरे देश में करने की योजना है।

     
     

     

     
     
     

    यह पेज अपने मित्र को ई - मेल  करें

    Fill in the form below to recommend this page to a friend

    To: (Name)              

    To: (Email address)    

    From: (Name)           

    From: (Email address)

     

     
    Copyright © 2011 Hindustanimedia.com All Rights Reserved.
         Copyright           Legal Disclaimer           About Us         Contact Us

    Designed & Maintained by WEBCO INDIA

    myspace profile counters